Best श्री Ganesh Aarti | Stuti | Chalisa 2021

[Ganesh Aarti]

सर्वप्रथम श्री गणेश जी की आरती

Ganesh Aarti Video

Ganesh ji Aarti (गणेश जी की आरती )

Ganesh Aarti

ganesh aarti

Ganesh Aarti

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

एक दंत दयावंत, चार भुजा धारी ।

माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

पान चढ़े फल चढ़े, और चढ़े मेवा ।

लड्डुअन का भोग लगे, संत करें सेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया ।

बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

ganesh aarti

Ganesh Aarti

Read Also: 

जाने (लाफिंग बुद्धा) Laughing Buddha kya hai

Difference between LTE vs VoLTE in hindi

Best Tutorial “Start Menu“ kya hai in hindi

 

Shri Ganesh Stuti श्री गणेश जी की स्तुति 

Ganesh Stuti

ॐ गजाननं भूतगणाधि सेवितमं

कपित्थजम्बू फल चारु भक्षणम ।

उमासुतं शोक विनाश कारकमं

नमामि विघनेश्वर पादापंकजम् ॥

हाथी के समान मुख वाले सम्पूर्ण प्राणियों एवं गणों के अधिपति सर्वश्रेष्ठ सम्पूर्ण देवताओं में आगे पूजे जाने वाले सम्पूर्ण गण जिनकी सेवा करते है कैथ और जामुन के फल को प्रेम से भक्षण करने वाले।  उमा सुतं माँ पार्वती के पुत्र सम्पूर्ण विघ्न एवं कष्ट शोक को नष्ट करने वाले।  समस्त देवताओं में सरव्श्रेष्ठ भगवन गज बदन की कमल के समान कोमल पैर की बन्दना करता हूँ।

zee talwara

Ganesh Aarti

स्तुति

गाइये गणपति जगवंदन ।

शंकर सुवन भवानी के नंदन ॥

सिद्धि सदन गजवदन विनायक ।

कृपा सिंधु सुन्दर सब लायक़ ॥

 मोदक प्रिय मृद मंगल दाता ।

विद्या बारिधि बुद्धि विधाता ॥

मांगत तुलसीदास कर ज़ोरे ।

बसहिं रामसिय मानस मोरे ॥

 

ganesh chalisa

Ganesh Aarti

Ganesh Chalisa सर्वप्रथम श्री गणेश चालीसा

Ganesh Chalisa

॥ दोहा ॥

जय गणपति सदगुण सदन,

कविवर बदन कृपाल ।

बिघ्न हरण मंगल करण,

जय जय गिरिजालाल ॥

॥ चौपाई ॥

जय जय जय गणपति गणराजू ।

मंगल भरण करण शुभ: काजू ॥

जै गजबदन सदन सुखदाता ।

विश्व विनायका बुद्धि विधाता ॥

वक्र तुण्ड शुची शुण्ड सुहावना ।

तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन ॥

राजत मणि मुक्तन उर माला ।

स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला ॥

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं ।

मोदक भोग सुगन्धित फूलं ॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित ।

चरण पादुका मुनि मन राजित ॥

धनि शिव सुवन षडानन भ्राता ।

गौरी लालन विश्व-विख्याता ॥

ऋद्धि-सिद्धि तव चंवर सुधारे ।

मुषक वाहन सोहत द्वारे ॥

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी ।

अति शुचि पावन मंगलकारी ॥

एक समय गिरिराज कुमारी ।

पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी ॥ 10 ॥

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा ।

तब पहुंच्यो तुम धरी द्विज रूपा ॥

अतिथि जानी के गौरी सुखारी ।

बहुविधि सेवा करी तुम्हारी ॥

अति प्रसन्न हवै तुम वर दीन्हा ।

मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा ॥

मिलहि पुत्र तुहि, बुद्धि विशाला ।

बिना गर्भ धारण यहि काला ॥

गणनायक गुण ज्ञान निधाना ।

पूजित प्रथम रूप भगवाना ॥

अस कही अन्तर्धान रूप हवै ।

पालना पर बालक स्वरूप हवै ॥

बनि शिशु रुदन जबहिं तुम ठाना ।

लखि मुख सुख नहिं गौरी समाना ॥

सकल मगन, सुखमंगल गावहिं ।

नाभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं ॥

शम्भु, उमा, बहुदान लुटावहिं ।

सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं ॥

लखि अति आनन्द मंगल साजा ।

देखन भी आये शनि राजा ॥ 20 ॥

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं ।

बालक, देखन चाहत नाहीं ॥

गिरिजा कछु मन भेद बढायो ।

उत्सव मोर, न शनि तुहि भायो ॥

कहत लगे शनि, मन सकुचाई ।

का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई ॥

नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ ।

शनि सों बालक देखन कहयऊ ॥

पदतहिं शनि दृग कोण प्रकाशा ।

बालक सिर उड़ि गयो अकाशा ॥

गिरिजा गिरी विकल हवै धरणी ।

सो दुःख दशा गयो नहीं वरणी ॥

हाहाकार मच्यौ कैलाशा ।

शनि कीन्हों लखि सुत को नाशा ॥

तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो ।

काटी चक्र सो गज सिर लाये ॥

बालक के धड़ ऊपर धारयो ।

प्राण मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो ॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे ।

प्रथम पूज्य बुद्धि निधि, वर दीन्हे ॥ 30 ॥

बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा ।

पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा ॥

चले षडानन, भरमि भुलाई ।

रचे बैठ तुम बुद्धि उपाई ॥

चरण मातु-पिता के धर लीन्हें ।

तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें ॥

धनि गणेश कही शिव हिये हरषे ।

नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे ॥

तुम्हारी महिमा बुद्धि बड़ाई ।

शेष सहसमुख सके न गाई ॥

मैं मतिहीन मलीन दुखारी ।

करहूं कौन विधि विनय तुम्हारी ॥

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा ।

जग प्रयाग, ककरा, दुर्वासा ॥

अब प्रभु दया दीना पर कीजै ।

अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै ॥ 38 ॥

॥ दोहा ॥

श्री गणेश यह चालीसा,

पाठ करै कर ध्यान ।

नित नव मंगल गृह बसै,

लहे जगत सन्मान ॥

सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश,

ऋषि पंचमी दिनेश ।

पूरण चालीसा भयो,

मंगल मूर्ती गणेश ॥

प्रिय मित्रों : इस लेख में आपने पढ़ा :

श्री गणेश की आरती (Ganesh Aarti)

श्री गणेश की स्तुति (Ganesh Stuti)

श्री गणेश चालीसा (Ganesh Chalisa)

मित्रों : अगर आपको इसमें कोई गलती नजर आती है तो कमेंट करके हमे जरूर बताएं और अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो अपने मित्रों के साथ शेयर जरूर करें।  धन्यवाद… 

Leave a Comment